चेक भरने का तरीका

बैंक में चेक कैसे जमा करे?

हम सभी का किसी ना किसी बैंक मे खाता(Account) है और हम सभी किसी ना किसी काम से बैंक जाते भी है। एक Account होने के बाद हम सभी सोचते है हमारे डेबिट कार्ड और चेकबुक होना चाहिए और कई लोगो के पास होता भी है। डेबिट कार्ड आने के बाद कई चीजो मे बदलाव आयी है जैसे लोग पैसे निकालने बैंक नही जाते है या फिर Account मे राशी के जानकारी भी डेबिट कार्ड से ही मिल जाती है। अब बदलते समय के साथ लोगो ने डिजीटल प्लेटफार्म को अपनाया है लेकिन चेक आज भी अपने जगह पर खडी पर है क्योकि चेक का इस्तेमाल आज के समय मे भी कम नही हुआ है। हम सभी ने चेक को देखा है या कभी ना कभी चेक को भरा होगा या फिर चेक का इस्तेमाल किया होगा लेकिन क्या आप मे से कितने लोगो को पता है की चेक को भरने का सही तरीका क्या है या फिर चेक को कैसे भरें।

आज इस लेख मे आप जानेंगे की चेक को भरने का सही तरीका क्या या फिर चेक को भरें।     

चेक जमा करने का तरीका

Step 1 – बैंक से Deposit Slip लें.

सबसे पहले आप अपने बैंक के ब्रांच मे जायें और डिपोजीट रशीद लें ले। इस के बाद आपके लिये गए रशीद मे सारे विवरण को भरें। हम आपको हरेक बैंक का रशीद तो नही दिखा सकते है लेकिन हम आपको सभी के पैटर्न को बता सकते है क्योकि सभी बैंको का पैटर्न एक जैसा ही होता है।
Date- जिस तारीख को चेक जमा करने वाले है।

Branch- आपके बैंक का ब्रांच
Type of account- आपका अकाउंट (करेंट अकाउंट या सेविंग अकाउंट)

Account number- आपका अपना बैंक अकाउंट नंबर

Name- आपका अपना नाम या फिर जिस नाम से बैंक अकाउंट है

Total Deposit from account- जितना आपको पैसे निकालना वो अमाउंट लिखें
Rupees in words- जितना आपको पैसे निकालना वो अमाउंट को शब्दों मे लिखें।

Mobile number- अकाउंट से जुडे नंबर को लिखें।
Signature- आपको चेक भरने के बाद साइन करना है।
रशीद को भरने के बाद बैंक मे चेक और दोनो के साथ मे बैंक मे जमा करदें। बैंक मे जमा करने के बाद बैंक कर्मचारी आप को एक रशीद देंगे।

इसके बाद पैसा अपके अकाउंट मे चला जायेगा। आपको इतना ही करना है।

भारत के सभी बैंको मे चेक लगाकर और पैसो को निकलने का तरीका एक जैसा ही होता है। आपका अकाउंट किसी भी बैंक में है आप उस बैंक मे जाकर चेक जमा कर सकते हो। इस बात का ध्यान रखें की आपने चेक मे सही जानकारी भरी होगी ये बात आप एक बैंक मे चेक जमा करने से पहले एक बार देख लें।

चेक जमा करने का दूसरा तरीका

चेक पर कुछ जानकारीयां पहले से ही छपी होती है, जिन्हे आपको सही-सही भरना होता है। इस कागज पर आपका नाम और आपका अकाउंट नंबर भी छपा होता है, इसके साथ आपके बैंक शाखा कि पुरी जानकारी भी छपी होती है। चेक पर तरीख भी छपी हुयी रहती है और आपको बता दें कि एक चेक अपने तारीख से तीन माह तक ही वैध रहता है। चेक भरते के वक्त इस बात का ख्याल रखे कि आप सभी विकल्पो को सही-सही भर रहे होगें। चेक बरते वक्त अगर आप किसी और के नाम चेक का इस्तेमाल कर रहे है तो धारक को काट दें ताकी इस चेक का फायदा वही ले सके जिसे आप देना हते है। आप जितने अमाउंट का चेक काट रहे है उस अमाउंट के बाद मात्र लिखें, जैसे अगर आप 50,000 हजार का चेक काट रहे है तो आपको 50,000 मात्र लिखेंगे। आप चेक उतने अमाउंट का काटें जितना आपे अकाउंट मे हो वरना चेक बाउंस हो जाता है, जो कि भारत मे एक क्राइम माना जाता है। चेक बरने के बाद जहां पर आपका नाम लिका उस जगह पर साइन करें, ठीक वैसे ही जैसा बैंक मे रजिस्टर्ड है। सबसे आखिर मे चेक को एक बार सही देख ले ताकी कोई गलती हुयी हो तो सुधारा जा सके।  

चेक के प्रकार

चेक भी कई प्रकार के है और सभी अलग-अलग चेक अलग-अलग तरीके से काम करते है।

खाता पेयी चेक(Account payee Cheque)- ये चेक आम चेक से काफी अलग होता है, इस चेक मे काम के सभी चिजे एक बॉक्स मे बंद है जैसे तारीख-, ऑर्डर का नाम, रेफरेंस, रियल अमाउंट, डिस्काउंट और अंत मे कुल नंबर। चेक पर चेक अमाउंट के लिए 1 बॉक्स बना हुआ है और अंत मे आपको जिप कोड देना है। इन चेक का मतलब होता है भुगतान करना, जैसे मे कभी कोई कंपनी किसी को किसी काम से चेक देती है इन्ही चेक का इस्तेमाल करती है तेकी ट्राजेक्शन सुरक्षित रहे।

धारक चेक(Bearer Cheque)-

ये सबसे आम चेक होता है जो हम सभी मिल जाती है, इस चेक मे आपके बैंक और आपके बैंक शाखा का पुरा पता होगा, इसके साथ इस कागज पर आपका नाम और आपका अकाउंट नंबर भी छपा होता है, इसके साथ आपके बैंक शाखा कि पुरी जानकारी भी छपी होती है। चेक पर तरीख भी छपी हुयी रहती है और आपको बता दें कि एक चेक अपने तारीख से तीन माह तक ही वैध रहता है।

क्रॉस्ड चेक(Crossed Cheque)- इस चेक मे आपके पैसे ज्यादा सुरक्षित रहते है, इस चेक के माध्यम से आप पैसो को केश नही करवा सकते है। इस चेक से पैसे बैंक से बैंक ट्रांसफर होता है और ये पैसो के ट्रांसफर के लिए सबसे सुरक्षित तरीका माना जाता है लेकिन इसके टैक्स कटते है। इस तरह के चेक को पहचानने के लिए उसके उपरी भाग पर दोनो रेखाएं समांनतर होगी।

आदेश चेक(Order Cheque)-

ये चेक भी आम चेक से अलग है क्योकि इस चेक मे दिय़े गये विकल्प काफी हद तक आलग है, जैसे- चेक पर तारीख, देने वाले का पुरा विवरण नाम से लेकर पता तक, पे टु द ऑर्डर ऑफ(नाम लिखना), एक बॉक्स मे अमाउंट लिखना, निचे मे आपका अकाउंट नंबर छपा होता है।

ये सभी चेक अलग चिजो मे काम करते है, जैसे कुछ कंपनि के लिए चेक है, तो कोई हर किसी को देने के लिए नॉर्मल बाले चेक है और कुछ अकाउंट से अकाउंट ट्रांसफर करने के चेक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *