डोसा बनाने का तरीका

डोसा बनाने का तरीका (Dosa Banane Ka Tarika)

डोसा बनाने का तरीका: डोसा नाम सुनते हि हमे दक्षिण भारत याद आता है और साथ मे सुपरस्टार रजनीकांत। डोसा दिखने मे लंबा होता है और खाने मे उतना हि स्वादिष्ट होता है। डोसा अक्सर नारीयल कि चटनी या फिर वेजिटेबल सांभर के साथ खाया जाता है। आप को जानकर आश्चर्य होगा कि डोसा चावल और दाल से बनता है। 

डोसा बनाने का तरीका

# डोसा बनाने का तरीका (Dosa Banane Ka Tarika)

डोसा बनाने के लिए सबसे बेहतर तरीका है, हम उसे तीन अलग-अलग हिस्सो मे बांट कर बनाये। इससे हमे डोसा बनाने मे आसानी होगी डोसा बनाने सिखने मे भी। डोसा बनाने से पहले उसके लिए हमे बैटर को तैयार करना होता है और बैटर तैयार करके हमे उसे फरमेंट (खमीर होना) होने के लिए कम से कम 6-8 घंटे के लिए किसी गर्म जगह पर छोङ दें।

यह भी पढ़े: केक बनाने का तरी

चलिए तो डोसा बनाने कि शुरुआत करते है

आवश्यक साम्रगी– 

  • चावल – आपके अनुसार, उङद की दाल – आपके अनुसार, मेथी के दाने – आपके अनुसार, चना दाल – आपके अनुसार, डोसा या इडली का चावल(पेराबोइल्ड राइस) – आपके अनुसार, नमक – स्वादानुसार, तेल या रिफाइन
  • पानी – जरुरत अनुसार
  • पूर्व तैयारी करने का समय – 14 घंटे
  • पकाने मे लगने वाला समय – 20-25 मिनट, तो अगले बार डोसा बनाने से 14 घंटा पहले ये सारी प्रक्रिया को पुरा कर लें।  

पहला हिस्सा(यह प्रक्रिया डोसा बनाने से करीब 12-14 घंटे पहले करने का है) 

  • डोसा का घोल (बैटर) तैयार करने के लिए सभी साम्रगी को एक जगह पर रख लें। चावल, उङद का दाल और मेथी के दाने डोसा बनाने के लिए सबसे जरुरी साम्रगी है। चना दाल को डोसा मे सुनहरा रंग लाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  • दोनो चावल के एक साथ एक बर्त्तन मे रख ले और पानी से करीब 3 से 4 बार धो लें और फिर चावल को एक बर्त्तन मे पानी मे भिगो के 4 से 5 घंटा के लिए छोङ दें।
  • उङद की दाल और चना दाल दोनो के एक साथ एक बर्त्तन मे रख ले और पानी से करीब 3 से 4 बार धो लें और फिर उङद की दाल, चना दाल और मेथी के दाने को भी, तीनो को एक बर्त्तन मे पानी मे भिगो के 4 से 5 घंटा के लिए छोङ दें।

यह भी पढ़े: पिज्जा बनाने का तरीका

दूसरा हिस्साफरमेंटखमीर होना( जल मिले पदार्थ मे विशिष्ट प्रकार का रासायनिक परिवर्त्तन करना)

  • एक छोटी से बाउल मे उङद की दाल और चना दाल दोनो को पानी से निकाल लें और फिर मिक्सी(समान के मात्रा के अनुसार मिक्सी लें) मे दोनो दाल को डालक र(अगर पानी कि जरुरत होती है तो पानी भी डाल सकते है) एक दम बारीक पीस दें। बारीकि से पीसने के बाद घोल को मिक्सी से निकाल कर एक बर्त्तन मे रख लें ( ये ध्यान लके कि घोल ज्यादा पतला ना हो और नाही हद से ज्यादा गाढा)।
  • एक छोटी से बाउल मे चावल को भी पानी से निकाल लें और फिर मिक्सी (समान के मात्रा के अनुसार मिक्सी लें) मे चावल को डालकर (अगर पानी कि जरुरत होती है तभी पानी डाले वरना नही डाले) एक दम बारीक पीस दें हांलाकि चावल मे उङद के मुकाबले कम पानी डालें। बारीकि से पीसने के बाद घोल को मिक्सी से निकाल कर एक बर्त्तन मे रख लें( ये ध्यान लके कि घोल ज्यादा पतला ना हो और नाही हद से ज्यादा गाढा)। 
  • दोनो ( दाल और चावल) को अच्छे से पीसने के बाद दोनो के घोल को एक साथ बङे बर्त्तन मे मिला दें, अच्छे से एक कलछी से मिला दें और देख ले कि पानी डालने कि जरुरत नही है । दोनो घोलो के मिलाने के बाद बर्त्तन को आराम से किसी बर्त्तन से झांप दें (ढक दें) और फरमेंट (खमीर होना) होने के 6 से 8 घंटे के लिए किसी गर्म पर छोङ दें।  

यह भी पढ़े: बिरयानी बनाने का तरीका

तीसरा हिस्सा – 

  • फरमेंट होने के बाद बर्त्तन के ढक्कन को हटाकर एक बार घोल के कलछी से हिला दें।
  • एक नॉन-स्टिक तवा यो फिर लोहा का तवा भी डोसा के बनाने के लिए सही चुनाव है। तवा के मध्यम आंच पर गर्म करें, तवा के गर्म होने के बाद तवे पर चम्मच से तेल डालें और तेल डालने के बाद उसे गीले कपडे से एक गोल आकार मे तेल को तवे पर फैला दें (ताकि जब घोल तवे पर डाले तो गोल आकार मे बन जाये)। 
  • तेल के गर्म होने के बाद घोल को किसी छोटे बाउल से तवा के उपर डालें और बाउल से घोल को गोल घुमाते हुए डालें (ध्यान रहे कि घोल को तेल के उपर हि आप डाले)। डोसा के करारा बनाने के लिए ब्रश से भी डोसा को फैला सकते है। घोल के डालने के बाद किसी छोटे चम्मच से तेल को घोल के चारो तरफ से डाल दें। 
  • करीब 2 मिनट के बाद जब घोल सुनहरे भुरे रंग का होने लग जाये तो एक बार फिर किसी छोटे चम्मच से तेल को घोल के चारो तरफ से डाल दें और करीब 2 मिनट के बाद उतार कर किसी प्लेट मे रख लें। याद रखे कि डोसा को एक हि तरफ से पकाया जाता है।      

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *