kya-hai-gst

क्या है GST? पढ़िए GST से जुड़ी खास बातें

देश में GST को लागू हुए एक अरसा बितने को चला है लेकिन आज भी बहुत से लोगो के मन मे सवाल है या फिर वो आज भी नही जानते है की जीएसटी क्या है। जीएसटी के बारे मे बात करे तो इसे लागू करने के समय कई जगहो पर इसका विरोध भी हुआ था और विपक्ष ने भी केंद्र सरकार पर कई सवाल खडे किये थे लेकिन लोकसभा और राज्यसभा दोनो सदनो मे इस बिल को पूर्ण बहुमत मिला था।

जिसके बाद ही भारत मे विरोध शुरु हुआ था, हालाकी पूर्ण बहुमत होने के कारण इसे केंद्र सरकार ने लागू कर दिया था। जबतक लोगो को GST के बारे मे हता नही था लोग थोडा सहम रहे थे लेकिन लागू होने के बाद ऐसा कुछ नही हुआ है। आपकी जानकारी के लिए आपको बता दे कि देश मे पहली बार इस GST कि कवायद 16 साल पहले ही अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के द्वारा की गयी थी लेकिन बहुमत न होने के कारण इस बिल पास को मंजुरी नहीं मिली थी।

GST क्या है?

GST

GST का पुरा नाम या फुल फॉर्म Goods And Services Tax है। जिसे हम आम भाषा में लगने वाले सभी टेक्स के बदले एक टेक्स कह सकते है। इसे अच्छे से समझने के लिए पहले हम जानते है कि अब तक हम कितने तरीके के टेक्स अदा करते थे। हम जीएसटी के आने से पहले Custom Duty,  Sales Tax, VAT(Value added tax),  Service Tex, Income Tax जैसे tax हम दिया करते थे। सरकार ने इन सभी टेक्स के बदले सिर्फ एक टेक्स कर दिया है जिसे हम GST के नाम से जाना जाता है या फिर जिएसटी है।

आप इस बात को जानकर हैरान हो होगे कि GST के आने से पहले जो direct और indirect tax लगते थे या हम अदा करते थे वो टोटल tax 30 से 35% हुआ करता था इनमे से तो कई टेक्स थे जिन्हे हम शायद जानते तक नही होगे लेकिन अब टेक्स 18% हो गया है।

GST के प्रकार

GST

अगर आप आज के समय मे कोइ समान खरीदने जाते है तो आपको दिखता होगा की समान के मुल्य के साथ दो और टैक्स लगे होते है। आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें की जीएसटी तीन भागो मे बटां हुआ है। इससे राज्य सरकार और केंद्र सरकार को भी टैक्स हिसाब रखने मे आसानी होती है। पहला है CGST दूसरा है SGST और तीसरा IGST ये सभी टेक्स केंद्र सरकार और राज्य सरकार में बंट जाता है।

  1. CGST – केंद्र सरकार
  2. SGST – राज्य सरकार
  3. IGST – केंद्र सरकार

चलिए अब इसे समझते है, इसे समझने के लिए जैसा की हमने आपको पहले ही बता दिया है और मान लिजीए की आपने किसी ऐसे जगह से समान खरीदा जहां उस सामान का प्रोडक्शन हो रहा है ऐसे मे उस प्रोडक्ट पर सिर्फ दो टैक्स लगेंगे SGST और CGST लेकिन अगर वो समान किसी दूसरे राज्य मे बेचा जा रहा या बिक रहा है तो ऐसे मे तीसरा टैक्स भी लागू हो जाता है, जिसे  IGST कहते है।

आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें की सरकार समय समय पर जीएसटी के टैक्स प्रतिशत मे बदलाव करती रहती है ताकी लोगो के ज्यादा दिक्कतो का सामना नही करना पडे या फिर ये टैक्स बोझ ना बन जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *