jal-sanrakshan

क्या है जल संरक्षण (Jal Sanrakshan)

जल संरक्षण: बढते समय के साथ कुछ चिजो कि किमत को भुल गया है और बढते समय के साथ वो चिज बेसकिमती होती जा रही है। हम बात कर पानी कि, आज के समय लोग पानी को बचाने के लिए अलग-अलग मुहिम चला रहे है इन मुहिमो का लोगो पर कुछ ज्यादा असर नही हुआ है और नाही मुहिमकर्त्ता ही इस काम को पपुरे तरीके से अंजाम दे पाये। बात तो ये भी हर कोई कोशीश ही कर सकता है या लोगो से अपिल कर सकता है, बाद बाकि इंसान इस चिजो को कैसे लेता है ये बात इंसानो पर निर्भर करता है। भारत देश मे पिछले कुछ समय मे अलग-अलग लोग अलग-अलग मुहिम लेकर आये और उन सभी लोगो का और उन सभी मुहिमो का एक ही मकसद था पानी को बचाना।

जल ही जीवन है कहावत से हम सभी वाकिफ ही होगे और अगर किसी भी व्यक्ति ने इतनी बडी बात कही है तो इसके पिछे कुछ तर्क तो होगा ही। हमारे शरीर मे 75% पानी ही है और ये बात हम मे काफी लोग बेहतर तरीके से जानते होगें, हमारे शरीर को आहार के अलावा जल की भी काफी जरुरत है। बढते समय के साथ जल कि आवश्यकता भी बढती गयी, जनसंख्या बढा, उद्दोग बढा और जल का इस्तेमाल भी बढा।

आज के समय मे भारत देश मे पानी से किल्लत से काफी क्षेत्र प्रभावित है, हम सबी ने आज कुछ साल पहले ही मुंबई कि कहानी सुनी थी जहां गांव मे पानी कि किल्लत के वजह से किसानो को अपना जान तक गंवाना पडा था। भारत देश मे अलग-अलग जगहो पर अलग-अलग नदी बहती है, जैसे दिल्ली शहर मे यमुना नही जो लगभग विलुप्त होने के कगार पर है, उत्तर प्रदेश के संगम मे मिलने वाली तीसरी नदी सरस्वती भी अब लोगो को नही दिखती है और भी ऐसे कई नदी है जो सुख चुकि है और उसका कोई अस्तित्व नही है। जिस तेजी से इंसान भूमि से जल को निकाल रहा है उसी तेजी से भू-जल स्तर दिन ब दिन घटता जा रहा है, लोगो को जल संरक्षण के नाम पर बस सोसल मिडीया पर पोस्ट करना आता है।

क्या है जल संरक्षण?

आज के युवा को जल संरक्षण का मतलब भी समझ नही आता है, जल संरक्षण का मतलब होता है जल को बचाना। कहने का मतलब जरुरत से ज्यादा पानी को इस्तेमाल नही करें और इसके लिए आपको कुछ ज्यादा मेहनत नही करना होगा बस आपके छोटे-छोटे प्रयास करने होगें।    

जल संरक्षण मे आपका योगदान

jal sanrakshan

  • जब भी आप नल का इस्तेमाल करें तो नल के स्पिड को कम करके रखें और काम हो जाने के तुरंत बाद बंद कर दें।
  • सुबह नित्यकर्म करते हुए पानी का इस्तेमाल जरुरतनुसार ही करें, नहाने के वक्त शॉवर का इस्तेमाल ना करें बाल्टी से ही नहायें।
  • वाशिंग मशीन का इस्तेमाल काफी हद तक कम ही करें और फल या कपडे धोते वक्त नल को खुला ना छोडें।
  • हम सभी जानते है गंगा को बचाने और साफ रखने के लिए देश के प्रधानमंत्री जी ने नमामी गंगे के नाम से योजना चलाया है जिसके तहत हर गंगा को साफ किया जायेगा। ऐसे मे आप भी कभी भी नही मे या फिर किसी बहती पानी मे कुडा-कचरा ना डालें।   

जल संरक्षण के लिए सरकारी योजना

जैसा कि हमाने आपको उपर पहले ही बताया है कि सरकार ने गंगा को साफ करने के लिए नमामि गंगे के नाम से योजना को लागू कर रखा है लेकिन भारत सरकार ने इसके अलावा भी आक जल संरक्षण के नाम पर योदना को लागू कर रखा है। इस योजना का नाम है जल क्रांति योजना, इसके देश के उन जगहो पर पानी को वापस लेकर आना जहां पर आज के समय मे पानी का स्तर नही है या फिर पानी का स्तर नीचे है। इस योजना को तब शुरुआत कि गयी थी जब महाराष्ट्र मे पानी के वजह से लोग मरते जा रहे थे।

पानी हमारे शरीर से लेकर खेती के तक के लिए सबसे जरुरी पदार्थ है, इसके बिना हम खाना से लेकर नहाना तक कुछ नही कर सकते है। पानी हमारे इतनी जरुरी है जितना हमारी जींदगी और जीतना आज के लोगो के लिए उनका फोन। अगर साफ और सरल शब्दो मे कहे तो बिना जल के जींदगी कि कल्पना ही नही कि जा सकती है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *